प्रकृति

 

Convergence of Voices

प्रस्तावना
प्रकृति शैक्षिक संचार संकाय (सीईसी) द्वारा आयोजित एक प्रतिष्ठित वृत्तचित्र महोत्सव है। इसका आयोजन साल 1997 से किया जा रहा है। इस वार्षिक महोत्सव का आयोजन देश के विभिन्न भागों में होता है। यह वृत्तचित्र महोत्सव गैर-प्रतिस्पर्धी है।

यह महोत्सव भारत के कई स्थानों जैसे हैदराबाद, पुणे, भोपाल, गोवा, पांडिचेरी, जोधपुर, त्रिपुरा, मैसूर, कालीकट, कोलकाता, चंडीगढ़ और चैन्नई में आयोजित किया जा चुका है। ज्यूरी के एक पैनल द्वारा चयनित वृत्तचित्रों को महोत्सव के दौरान प्रदर्शित किया जाता है। निर्देशक / निर्माता या प्रतिनिधियों को उनके वृत्तचित्र में उठाए गए मुद्दों पर दर्शकों के साथ बातचीत करने के लिए आमंत्रित किया जाता है। यह महोत्सव पर्यावरण, विकास, स्वच्छता और मानव अधिकारों जैसे मुद्दों के बारे में जागरूकता फैलाने का एक प्रयास है।

इस महोत्सव में पारिस्थितिक चुनौतियों, आर्थिक विकास के अवसरों, पर्यावरण संरक्षण के दृष्टिकोण, स्वदेशी विकल्पों, प्राकृतिक संसाधन के संरक्षण और मानवाधिकारों के प्रति जागरूकता और कार्यशीलता पर बल दिया जाता है। महोत्सव शैक्षिक पहलुओं पर कार्यरत संगठनों एवं व्यक्तियों के व्यापक गठबंधन की दिशा में एक सशक्त कदम है।

पुरस्कार राशि:
प्रकृति वृत्तचित्र महोत्सव समानता, नैतिकता और पारिस्थितिकी के शैक्षिक पहलुओं पर विचार-विमर्श हेतु एक मंच प्रदान करता है। वर्ष 2018 में प्रकृति वृत्तचित्र महोत्सव को गैर-प्रतिस्पर्धी से प्रतिस्पर्धी बनाया गया है। इसका अधिकार क्षेत्र दक्षिण-पूर्व एशिया तक विस्तारित किया गया है ताकि महोत्सव में केंद्रित मुद्दों पर वैश्विक जागरूकता फैलाई जा सके। वर्ष 2018 में स्वच्छ भारत नामक एक विशेष श्रेणी को शामिल किया गया था। प्रत्येक श्रेणी में रु. 50,000/- का सर्वश्रेष्ठ वृत्तचित्र पुरस्कार दिया जाता है।


प्रविष्टियां आमंत्रण :
मीडिया हाउसों, जनसंचार संस्थानों, मीडिया संस्थानों एवं वैयक्तिक फिल्म निर्माताओं से प्रकृति अंतर्राष्ट्रीय वृत्तचित्र महोत्सव हेतु निर्धारित प्रारूप में वृत्तचित्र के लिए प्रविष्टियाँ आमंत्रित की जाती हैं। वृत्तचित्र का निर्माण या तो हिन्दी या अंग्रेजी में किया गया हो और अन्य भाषा हेतु अंग्रेजी में उप-शीर्षक अनिवार्य हैं। कृपया ध्यान दें कि प्रत्येक श्रेणी में केवल एक ही प्रविष्टि की अनुमति है। प्रविष्टियाँ चार श्रेणियों, अर्थात् (i) पर्यावरण, (ii) विकास, (iii) मानव अधिकार और (iv) स्वच्छ भारत (स्वच्छ भारत अभियान) में आमंत्रित की जाती हैं।
प्रविष्टियाँ पूरी तरह से ऑनलाइन प्रवेश प्रपत्र में अंकित कर जमा करवायें।ऑनलाइन प्रविष्टियाँ ध्यानपूर्वक भरें और उसके साथ संग्लग्न फिल्म की श्रेणी स्पष्ट रूप से लिखी हो।ऑनलाइन प्रविष्टियां प्रारूप की प्रति पोस्ट / कूरियर / व्यक्तिगत रूप से भेजी जा सकती हैं या सॉफ्ट कॉपी महोत्सव की मेल आईडी के माध्यम से भेजी जा सकती हैं। लिफाफे पर स्पष्ट रूप से उल्लेख करें "प्रकृति महोत्सव-2019 के लिए प्रवेश" और "वृत्तचित्र की श्रेणी का शीर्षक"।
डॉ. सुनील मेहड़ू,
संयुक्त निदेशक (सॉफ्टवेयर),
शैक्षिक संचार संकाय, आई.यू.ए.सी. परिसर,
अरुणा आसफ अली मार्ग, नई दिल्ली-110067
प्रविष्टियां प्राप्त करने की अंतिम तिथि: 31 दिसंबर 2019
ज्यूरी परिणाम की घोषणा
चयनित प्रविष्टियों की सूची सीईसी की वेबसाइट, (http://cec.nic.in) पर अपलोड की जाएगी और सभी प्रतिभागियों और विजेताओं को ई-मेल के माध्यम से अवगत कराया जाएगा।

इसके अतिरिक्त यदि वृत्तचित्र को ज्यूरी द्वारा स्क्रीनिंग के लिए चुना जाता है, तो फिल्म की मास्टर कॉपी को उल्लिखित मानकों में जमा करना होगा। मास्टर कॉपी 720 x 576 (स्टैंडर्ड डेफिनेशन [एस.डी.]) या 1920 x 1080 (हाई डेफिनेशन [एच.डी.]) के मानक के साथ .MOV या .AVI प्रारूप में होना चाहिए। मास्टर कॉपी पोस्ट / कूरियर / व्यक्तिगत रूप से भेजी जा सकती है या ई-मेल आई डी पर लिंक भी भेजा जा सकता है।
स्पष्टीकरण, यदि कोई हो तो संपर्क करें:
संयुक्त निदेशक (सॉफ्टवेयर)
Ph. 011-24126418 / 24126419 और 24126426
ई-मेल: prakritifest18[at]gmail[dot]com
Storytelling Begins...
ENVIRONMENT
 
Click for Previous Year 2018 Click for Next Year
 
WANTED BRIDE
NIANGTASER - MESMERISING MEGHALAYA - INDIA
MANGROVES NATURES HARDY FOOT SOLDIERS HQ
THE WOODS ARE CALLING
SANJAY VAN - THE URBAN WILD-HIGH RESOLUTION
MAYUM MUNPE
WATER MAN
CARRY ON
R.I.P.